blogid : 321 postid : 1375734

गुजरात में स्मृति ईरानी बन सकती हैं मुख्यमंत्री! जानें किसके हाथ में आएगा हिमाचल

Posted On: 20 Dec, 2017 Politics में

Shilpi Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गुजरात और हिमाचल में बहुमत के बाद दोनों राज्यों में मुख्यमंत्री कौन बनेगा, ये सबसे बड़ा सवाल है। हिमाचल में सीएम कैंडीडेट प्रेम कुमार धूमल चुनाव हार गए हैं। वहीं गुजरात का हाल भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है। गुजरात में 117 से 99 सीट की गिरावट के चलते विजय रूपाणी को अपनी कुर्सी खतरे में दिख रही है और पार्टी भी बड़े फैसले लेने की सोच में है। ऐेसे में चलिए एक नजर ड़ालते हैं उन उम्मीदवारों पर जिसकी चर्चा बीजेपी अपने सीएम के लिए कर सकती है।

cover modi


गुजरात में नंबर ने बिगाड़ा कुर्सी का खेल

खबरें चल रही हैं की बीजेपी को गुजरात में जितनी सीटें मिली हैं वो पार्टी को खतरे की घंटी लग रही है। ऐसे में गुजरात में विजय रूपाणी के स्थान पर किसी दूसरे व्यक्त‍ि को यह पद दिया जा सकता है। जानकारी के अनुसार पार्टी को एक ऐसा चेहरा चाहिए, जो गुजरात में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कि लोकप्रियता की बराबरी भले ही ना कर पाए, पर गुजरात में बीजेपी ने जिस विकास का भरोसा दिलाया है उसे पूरा कर सके। जनता की उम्मीदों पर खरा उतरे और साथ ही बीजेपी नेताओं को संगठ‍ति करने में भी सक्षम हो, जो इस चुनाव में अलग-थलग होते दिखे।


modi-and-amit-shah-in-gujarat-pti-650_650x400_61508164485

कपड़ा मंत्री से मुख्यमंत्री तक सफर तय करेंगी स्मृति ईरानी!

इस दौड़ में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी का नाम सबसे आगे हैं। मजबूत नेतृत्व में पारांगत और गुजराती भाषा की जानकार होने के साथ ही स्मृति ईरानी प्रधानमंत्री के करीबी मंत्रीओं में से एक हैं। ऐसे में सूत्रों ने यह संभावना जताई है कि स्मृति ईरानी गुजरात की अगली मुख्यमंत्री बन सकती हैं। वहीं, सीएम पद के इस दौड़ में दूसरे स्थान पर केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग और शिपिंग के राज्य मंत्री मनसुख मांडविया का नाम है। मांडविया पाटीदार होने के साथ-साथ किसान और जमीन से जुड़े नेताओं में शामिल हैं।


smriti_modi_0_0


गुजरात के रेस में इनका नाम भी शामिल

जबकि तीसरे स्थान पर वजुभाई वाला का नाम बता रहे हैं। वजुभाई क्षत्रिय समाज से आते हैं, वह कर्नाटक के वर्तमान गवर्नर हैं और गुजरात विधानसभा के पूर्व स्पीकर। वजुभाई वाला के पोर्टफोलियो में फाइनेंस, मजदूर और रोजगार जैसे अहम क्षेत्र जुड़े हुए हैं। संगठन के जानकार और सौराष्ट्र में अच्छी खासी पकड़ रखने वाले वजुभाई के नाम पर भी मुहर लग सकती है।


jp nadda


हिमाचल में भी कई नाम पर संशय

हिमाचल में प्रेम कुमार धूमल के हारने से संकट खड़ा हुआ है। धूमल न सिर्फ खुद हारे हैं, उनके कई करीबी भी हार गए हैं। हालांकि धूमल अभी भी अपने नाम के लिए जोर लगा रहे हैं। कुटलेहड़ से वीरेंद्र कंवर उनके लिए सीट छोड़ सकते हैं। दूसरी तरफ जेपी नड्डा का नाम भी चर्चा में है, मगर नड्डा ससंदीय बोर्ड समेत कई दूसरे अहम पदों पर हैं। इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री बनाने पर कई बार विचार किया जाएगा।…Next


Read More:

कभी राष्‍ट्रपति का घोड़ा बनना चाहते थे प्रणब मुखर्जी! जानें क्‍यों कहा था ऐसा

दादी इंदिरा के नक्‍शे कदम पर राहुल गांधी, करने लगे हैं यह काम!

संसद हमले के 16 साल: कारगिल युद्ध के ढाई साल बाद बॉर्डर पर फिर आमने-सामने हो गए थे भारत-पाक



Tags:                                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran