blogid : 321 postid : 1373824

कभी राष्‍ट्रपति का घोड़ा बनना चाहते थे प्रणब मुखर्जी! जानें क्‍यों कहा था ऐसा

Posted On: 11 Dec, 2017 Politics में

Avanish Kumar Upadhyay

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश के पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी का आज जन्‍मदिन है। 11 दिसंबर 1935 को बंगाल के एक गांव में पैदा हुए मुखर्जी आज 82 वर्ष के हो गए। उन्‍होंने सन् 1969 में बतौर राज्‍यसभा सदस्‍य देश की सियासत में कदम रखा और महामहिम तक का सफर पूरा किया। प्रणब दा ने विभिन्‍न पदों पर रहते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक के साथ काम किया। इतने लंबे सियासी सफर के दौरान उनके साथ कई किस्‍से जुड़े। इन्‍हीं में से एक किस्‍सा हम आपको बता रहे हैं। प्रणब दा रायसीना हिल्‍स की ओर हमेशा आकर्षित रहे, लेकिन उन्‍होंने राष्‍ट्रपति बनने के बारे में नहीं सोचा था। हां, वे राष्‍ट्रपति का घोड़ा जरूर बनना चाहते थे, वो भी अपने अगले ‘जन्‍म’ में। आइये आपको बताते हैं कि क्‍यों प्रणब दा ऐसा सोचते थे।


pranab mukherjee


राष्‍ट्रपति भवन के घोड़ों के ठाट-बाट से थे प्रभावित


pranab mukherjee1


बंगाल के सुदूर गांव में पैदा हुए प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति भवन के घोड़ों के ठाट-बाट से बहुत प्रभावित थे। मजाक में ही सही, लेकिन यह इच्छा उन्होंने अपनी बहन अन्नपूर्णा से व्यक्त की थी। बात सन् 1969-70 की है। तब प्रणब दा पहली बार राज्यसभा सदस्य बने थे। उन्हें सांसद कोटे से साउथ एवेन्यू में फ्लैट मिला था। उनके फ्लैट से रायसीना हिल्स (राष्ट्रपति भवन) का अस्तबल और घोड़े दिखाई देते थे। वहां घोड़ों की खूब खातिरदारी होती थी।


बहन से मजाक में कही थी यह बात


president pranab mukherjee_


नए-नए सांसद बने भाई से मिलने और दिल्ली घूमने के लिए प्रणब दा की बहन अन्नपूर्णा वहां गई थीं। एक दिन दोनों भाई-बहन फ्लैट में बैठकर राष्ट्रपति भवन को देख रहे थे। उसी दौरान मजाक में प्रणब दा ने अपनी बहन से कहा कि अगले जन्म में वे राष्ट्रपति का घोड़ा बनेंगे। उनकी इस बात को सुनकर अन्‍नपूर्णा ने कहा कि घोड़ा क्यों, इसी जन्म में तुम राष्ट्रपति बनोगे। प्रणब मुखर्जी ने बहन की इस बात को मजाक में लिया। शायद तब भाई-बहन दोनों को नहीं पता रहा होगा कि यह बात एक दिन सच होगी। प्रणब दा ने सियासत में लंबी पारी खेलते हुए महामहिम का पद संभाला।


Read: TV की वो 5 खूबसूरत खलनायिकाएं, जिनसे नफरत नहीं हो जाएगा प्‍यार!


कई बड़े पदों पर रहे


president pranab mukherjee12_


प्रणब दा पहली बार 1969 में राज्‍यसभा सदस्‍य बने। इसके बाद वे 1975, 1981, 1993 और 1999 में भी राज्‍यसभा सदस्‍य बने। पीवी नरसिम्‍हा राव की सरकार में फरवरी 1995 से मई 1996 तक विदेश मंत्री रहे। अक्‍टूबर 2006 से मई 2009 तक मनमोहन सिंह की सरकार में दूसरी बार विदेश मंत्री बने। इससे पहले मनमोहन सिंह की ही सरकार में मई 2004 से अक्‍टूबर 2006 तक रक्षामंत्रालय की कमान संभाली। इंदिरा गांधी की सरकार में 1982 से 1984 तक और मनमोहन सिंह की सरकार में जनवरी 2009 से जुलाई 2012 तक वित्‍त मंत्री रहे। 25 जुलाई 2012 को देश के 13वे राष्‍ट्रपति बने…Next


Read More:

सोनिया गांधी ने राजनीति में न आने की खाई थी कसम, इस वजह से पॉलिटिक्‍स में रखना पड़ा कदम!
BHU में सिर्फ 1 रुपये सैलरी लेते थे प्रो. लालजी सिंह, सुलझाया था राजीव गांधी हत्‍याकांड केस!
चेहरे पर निशान की वजह से विलेन बने थे शत्रुघ्न, शादी के बाद इस हीरोइन से जुड़ा नाम



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran