blogid : 321 postid : 1350169

इन राजनेताओं के दिल ने नहीं दिया इनका साथ, सभी की मौत की एक थी वजह

Posted On: 1 Sep, 2017 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इतिहास के पन्नों में दर्ज है कि दिल के दौरे ने कई बड़े राजनेताओं के प्राण हर लिए हैं, यानि इनका साथ इनके खुद के दिल ने नहीं दिया.  आइए, जानते हैं कौन-कौन से नेताओं और शख्सियतों को दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई.

leaders



जवाहरलाल नेहरू- स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से हुआ. कहा जाता है कि 1962 के युद्ध में चीन के हाथों भारत की हार से नेहरू जी बहुत हताहत हुए थे. धोखे से मिली इस हार की पीड़ा नेहरू जी सह नहीं पाएं और 27 मई 1964 को प्रधानमंत्री आवास “तीन मूर्ति भवन” में उनका निधन हो गया.



neharu


लाल बहादुर शास्त्री- ताशकन्द समझौता पर हस्ताक्षर करने के बाद उसी रात उनकी मृत्यु हो गयी. मृत्यु का कारण दिल का दौरा बताया गया. हालांंकि, शास्त्री जी के निधन पर उनके परिजन समय-समय पर उनकी मौत पर सवाल उठाते रहे हैं. कुछ का मानना है कि शास्त्री जी की मृत्यु जहर देने से हुई है. शास्त्री जी को उनकी साफ सुथरी छवि के कारण 1964 में देश का प्रधानमन्त्री बनाया गया था.





lal-bahadur-shastri


एपीजे अब्दुल कलाम- देश के पूर्व राष्ट्रपति और मशहूर वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम का निधन भी दिल के दौरे से हुआ. 83 वर्ष के अब्दुल कलाम अपनी शानदार वाक कला के लिए मशहूर थे और संयोग देखिए एक लेक्चर के दौरान ही काल ने उन्हें अपना ग्रास बना लिया. आईआईएम शिलॉन्ग में लेक्चर के दौरान ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद वह बेहोश होकर गिर पड़े और उनकी मृत्यु हो गई.



kalam



बाल ठाकरे- हिन्दुस्तान और महाराष्ट्र के प्रसिद्ध राजनेता एवं शिव सेना प्रमुख बाल ठाकरे का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ. महाराष्ट्र की राजनीति पर बाल ठाकरे की मजबूत पकड़ थी. उन्होंने अपना कॅरियर एक कार्टूनिस्ट के रूप में शुरू किया था. बाद में उन्होंने मराठी में ‘सामना’ नाम से एक अखबार भी निकाला. बाल ठाकरे अपने उत्तेजित करने वाले बयानोंं के लिये जाने जाते थे. इस कारण उनके खिलाफ कई मुकदमे भी दर्ज थे.



bala

पीवी नरसिंह राव- भारत के नौवें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने वाले पामुलापति वेंकट नरसिंह राव का निधन हार्ट अटैक से हुआ. ‘लाइसेंस राज’ की समाप्ति और भारतीय अर्थव्यवस्था में खुलापन इनके काल से ही आरम्भ हुआ. नरसिंह राव आन्ध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे.



PV Narasimha Rao



सुनील दत्त- पूर्व केंद्रीय खेल और युवा मामलों के मंत्री और मशहूर फिल्म अभिनेता सुनील दत्त का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ. सुनील दत्त मुंबई से पाँच बार कांग्रेस के सांसद रह चुके थे. फिल्मी प्रशंसक सुनील दत्त को “दत्त साहब” के नाम से जानते थे...Next



Read more:

एक ऐसा मंदिर जिसमें नहीं कर सकते भ्रष्ट नेता-अधिकारी-न्यायाधीश प्रवेश

इस नेता ने कहा महिलाओं के कारण आता है भूकंप, जानें कैसे?

नेता ही नहीं बॉलीवुड के इन गानों ने भी खूब लूटा है यूपी बिहार को




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran