blogid : 321 postid : 1347091

40 साल के मोहम्मद अली जिन्ना को 16 साल की पारसी लड़की से हुआ प्यार, ऐसी थी लव स्टोरी

Posted On: 19 Aug, 2017 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना को भारत में हमेशा एक विवादित शख्सियत के रूप में देखा जाता है. भारत का विभाजन होने में जिन्ना की भूमिका को मुख्य माना जाता है. जिन्ना की निजी जिंदगी भी विवादों से अछूती नहीं रही है. मोहम्मद अली जिन्ना का दिल अपने से 24 साल छोटी 16 साल की रतनबाई उर्फ रूटी पर आ गया था. आखिर कैसे हुआ इन दोनों में प्यार, आइए जानते हैं.


cover jinah


16 साल की उम्र में हुआ था जिन्‍ना का निकाह

जिन्ना का निकाह 16 साल की उम्र में 14 साल की एमिबाई से हुआ था. इसके बाद जिन्ना अपनी पढ़ाई पूरी करने लंदन चले गए. वहीं रहते हुए उन्हें अपनी बीवी के निधन की जानकारी प्राप्त हुई, जो बीमारी के कारण चल बसी थी.


Muhammad


मुंबई के उद्योगपति की बेटी पर आया दिल

जिन्ना और रूटी की पहली मुलाकात दार्जिलिंग में हुई थी. मुंबई के नामी उद्योगपति रूटी के पिता सर दिनशा पेटीट जिन्ना के अच्छे दोस्त थे. रूटी के पिता परिवार सहित दार्जिलिंग जा रहे थे. उन्होंने जिन्ना को भी अपने साथ चलने का न्योता दिया. यहीं रूटी जिन्ना को पहली नजर में पसंद आ गईं.



jinah wife

जिन्ना और रूटी का रिश्ता लोगों को नहीं था पसंद

जिन्ना और रूटी के बीच मेलजोल बढ़ा और दोनों एक-दूसरे को पसंद करने लगे. एक दिन जिन्ना ने हिम्मत करके दिनशा से उनकी बेटी रूटी का हाथ मांग लिया. जिन्ना की इस पेशकश ने दिनशा की दोस्ती का अंत कर दिया.


muhammadalijinnah_5


घरवालों की मर्जी के खिलाफ हुआ दोनों का निकाह

रूटी जैसे ही 18 साल की हुईं, उन्होंने अपने पिता का घर छोड़ दिया. दोनों ने 1918 में बम्बई के जिन्ना हाउस में निकाह किया. रूटी के परिवार का कोई भी सदस्य इसमें शामिल नहीं हुआ. रूटी ने इस्लाम कबूल कर लिया और अब वह मरियम बाई बन चुकी थीं.


jinahh-rutie

निकाह के कुछ वर्षों बाद ही आई रिश्‍ते में दरार

निकाह के अगले ही साल 1919 में दोनों एक बच्चे के माता-पिता बन गए. इसके बाद जल्द ही दोनों के रिश्तों में दरार आनी शुरू हो गई. घरेलू विवाद की वजह से रूटी बहुत ज्यादा नशा करने लगी थीं. अकेलापन उन्हें सताने लगा था. उन्होंने खुद को ड्रग्स के हवाले कर दिया.


jinah


20 फरवरी 1929 को रूटी ने दुनिया को कहा अलविदा

तबीयत खराब होने की वजह से रूटी को लंदन ले जाना पड़ा. इलाज कराकर वापस देश लौटीं, तो 20 फरवरी 1929 को रूटी ने अपने 30वें जन्मदिवस पर दुनिया को अलविदा कह दिया.


rutie

ईश्ना असरी कब्रिस्तान में रूटी के शव को दफना दिया गया. इस तरह एक खूबसूरत आगाज वाली इस प्रेम कहानी का त्रासद अंत हुआ…Next

Read More:

सुब्रह्मण्‍यम स्वामी से लेकर सचिन पायलट तक, कुछ ऐसी है इन नेताओं की लव स्टोरी

टीचर पर आया था बिहार के सीएम नीतीश का दिल, की थी इंटरकास्ट मैरिज

रिटायरमेंट के बाद भी रहेगी प्रणब मुखर्जी की ठाट, मिलेगी इतनी सैलेरी और शानदार लाइफस्टाइल

सुब्रह्मण्‍यम स्वामी से लेकर सचिन पायलट तक, कुछ ऐसी है इन नेताओं की लव स्टोरी
टीचर पर आया था बिहार के सीएम नीतीश का दिल, की थी इंटरकास्ट मैरिज
रिटायरमेंट के बाद भी रहेगी प्रणब मुखर्जी की ठाट, मिलेगी इतनी सैलेरी और शानदार लाइफस्टाइल


Tags:                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran