blogid : 321 postid : 1341390

ऐसे प्रधानमंत्री जिन्होंने ‘भारत रत्न’ के लिए खुद अपना ही नाम भेज दिया!

Posted On: 20 Jul, 2017 Politics में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस देश में सियासत बहुत जर्बदस्त है. जो सड़क से लेकर संसद तक चलती है. आप घर से लेकर दफ्तर तक देख लीजिए, आपको ज्यादातर लोग सियासत करते दिख ही जाएंगे. सियासत की गहमागहमी के बीच राजनीति का एक किस्सा ऐसा है, जिसे बीते आज 50 साल से भी ज्यादा समय हो गया लेकिन उस पर चर्चा आज भी होती है.


bharat ratna story


1955 का ये किस्सा है जवाहरलाल नेहरू को मिले भारत रत्न पर

15 जुलाई 1955 को चाचा नेहरू भारत रत्न के सम्मान से नवाजे गए थे. उस समय राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने उन्हें सम्मानित किया था. लेकिन आपको सुनकर हैरानी होगी कि पंडित नेहरू ने खुद ही अपने नाम की सिफारिश की थी. नियम के अनुसार प्रधानमंत्री हर साल भारत रत्न के लिए राष्ट्रपति को कुछ प्रस्ताव भेजते हैं. राष्ट्रपति उसे फाइनल करते हैं और रत्न दिया जाता है.


nehru pandit

आरटीआई से हुआ खुलासा

1955 में जब जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री थे, तो उन्हें कैसे भारत रत्न मिल सकता है? ये सवाल कई बार उठा है. इस बात का खुलासा हुआ आरटीआई में. जिसका जवाब मिला कि राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद ने खुद ही तय कर लिया कि नेहरू को रत्न मिलना चाहिए यानि नेहरू ने राजेन्द्र को अपना नाम सुझाया था. ऐसा ही कुछ इंदिरा गांधी के साथ भी हुआ जब 1971 में उन्हें भारत रत्न दिया गया.


indira

भारत रत्न को मिलती है ये सुविधाएं

  • हमेशा के लिए भारत में एयर इंडिया की प्रथम श्रेणी और रेलवे की प्रथम श्रेणी में मुफ्त यात्रा होती है.
  • रत्न पाने वालों को जिंदगी भर इनकम टैक्स नहीं भरना पड़ता.
  • जरूरत पड़ने पर जेड ग्रेड की सुरक्षा दी जाती है.
  • हर राज्य में स्टेट गेस्ट की सुविधा दी जाती हैं.
  • विदेश यात्रा में भारतीय दूतावास द्वारा उन्हें हर संभव सुविधा मिलती है.
  • VVIP के बराबर का दर्जा दिया जाता है.

आरटीआई में इस किस्से का खुलासा होने के बाद से पंडित नेहरू का ये किस्सा एक बार फिर से चर्चा में आ गया है. …Next







Read More :

तो क्या होता अगर ये नेता होते अभिनेता

ये हैं इन नेताओं की खूबसूरत पत्नियाँ

मोदी, ओबामा और विश्व के नेता करते हैं इस फोन का इस्तेमाल



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran