blogid : 321 postid : 1260800

मुख्यमंत्री की बेटी से इन्हें हो गया प्यार, परिवार से की बगावत

Posted On: 15 Oct, 2016 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

‘येसाd More:’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का ट्वीस्ट.’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का ट्वीस्ट.’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का ट्वीस्ट.’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का ट्वीस्ट. ट्वीस’ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है’. ये मशहूर डॉयलग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्ही लोगों पर सही लगती है जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की. आइए जानते हैं आखिर क्या है इनकी प्रेम कहानी का ट्वीस्ट.

‘ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे, एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है. ये मशहूर डायलॉग तो आपने जरूर सुना होगा. ये बात उन्हीं लोगों पर सही लगती है, जो अपनी मोहब्बत को पाने के लिए जी जान लगा देते हैं. ऐसी ही एक कहानी है भारत के मशहूर नेता सचिन पायलट और उनकी पत्नी सारा अब्दुल्ला की.


sachin pilot ocver pics



कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री की बेटी हैं सारा

सारा पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला की बेटी हैं, उनके भाई भी राजनीति में जाना माना चेहरा हैं. 2009 में सारा के भाई उमर जम्मू और कश्मीर के सीएम चुने गए थे. वहीं सचिन पायलट पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजेश पायलट के बेटे हैं और कांग्रेस के जाने माने नेताओं में से एक हैं.


sachin famliy



कब हुई प्यार की शुरुआत

प्यार कभी भी, कहीं भी, किसी से भी हो सकता है, और ये बात सचिन और सारा की कहानी पर बिल्कुल सटीक बैठती है. दरअसल सचिन और सारा लंदन में रहकर पढ़ाई कर रहे थे और उसी दौरान उनकी मुलाकात हुई और जल्द ही ये मुलाकात प्यार में बदल गई.


sara pilot


कब हुआ प्यार का अहसास

कश्मीरी बाला सारा की खूबसूरती के कायल तो सचिन पहले ही हो चुके थे, लेकिन उनसे वो प्यार करने लगे हैं इस बात का एहसास उन्हें तब हुआ जब वो विदेश से पढ़ाई करके हिंदुस्तान आ गये और सारा विदेश में ही रह गईं.


sara and sachin pilot


हिंदू-मुस्लिम ने खड़ा किया विवाद

जब सचिन अपनी पढ़ाई पूरी करके वापस भारत आए तो उन्होंने सारा से शादी करने की इच्छा जताई, लेकिन सारा के परिवार को ये रिश्ता मंजूर नहीं था. दरअसल सारा का परिवार मुख्य रूप से कश्मीर में राजनीति करता था और केंद्र में भी उनकी धाक थी, ऐसे में अपने घर में हिंदू दामाद लाना उन्हें अपने राजनीतिक कॅरियर के लिए ठीक नहीं लगा.


sachin sa



Read: राजनीति से दूर रहना चाहते थे राजीव, पीएम बनने से खुश नहीं थी सोनिया


सारा के परिवार ने नहीं दी शादी को मान्यता

जहां एक तरफ सचिन के परिवार ने सारा को अपना लिया था, वहीं दूसरी तरफ सारा का परिवार इस शादी से बेहद खफा था. लेकिन धर्म, जाति और राजनीति से उपर उठकर सचिन ने सारा का हाथ थामा औऱ जनवरी 2004 में एक समारोह में शादी की. इस शादी का अब्दुल्ला परिवार ने विरोध किया और शादी को मान्यता देने से ही इंकार कर दिया.


sachina and sara



कब मिली शादी को मंजूरी

शादी के कुछ महीनों बाद ही सचिन पायलट राजनीति में सक्रिय रूप से शामिल हो गए. उन्होंने 2004 का लोकसभा चुनाव कांग्रेस के टिकट पर दौसा संसदीय सीट से लड़ा और भारी जीत दर्ज की. इसी जीत के साथ ही उन्हें अब्दुल्ला परिवार ने अपना लिया.


sachi nsara love



पूर्व प्रधानमंत्री के मंत्रीमंडल का हिस्सा रहें हैं सचिन

जब अब्दुल्ला ने सचिन को अपना दामाद माना उसके बाद वो कई बार अपनी बेटी और दामाद के साथ नजर आए. सचिन पायलट मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल में शामिल हुए, तो फारुख अब्दुल्ला ने अपनी खुशी जाहिर की थी.


Sachin Pilot and J&K Chief Minister Omar



सारा के पिता और भाई ने की है दूसरे धर्म में शादी

फारुख अब्दुल्ला भले ही बेटी सारा की शादी के खिलाफ थे, लेकिन उनके बेटे ने एक आर्मी ऑफिसर की बेटी पायल नाथ से विवाह किया है…Next


Read More:

एक्टर, लेखक बनते बनते मोदी कैसे बन गए पीएम, जानें उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें

200 साल पुरानी हवेली पर दिल्ली के इस मंत्री ने किया भारी खर्च, बनाया राजमहल

सेंसर की कैंची ने महाभारत को भी नहीं छोड़ा था, कटवाए गए थे ये दो सीन




Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran