blogid : 321 postid : 1196087

इटली की इस जगह रहती थी सोनिया, उनका असली नाम था ये

Posted On: 29 Jun, 2016 Politics में

Shakti Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत के लोग यूरोपीय देश ‘इटली’ को उसके प्राचीन इतिहास की वजह से कम कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी की वजह से ज्यादा जानते हैं. यही वह देश है जिसकी वजह से सोनिया गांधी हमेशा ही अपने विरोधियों के निशाने पर रही हैं. दरअसल इटली सोनिया गांधी का जन्म स्थान है. वह भारत की नागरिक होने से पहले इटली की नागरिक थी. उन्होंने राजीव गांधी से शादी करने के बाद भारत की नागरिकता अपनाई थी.


sonia20


इटली के इस जगह रहती थी सोनिया

दिसंबर 1946 को जन्मी कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी इंटली में लुसियाना के कोंट्राडा मैनी (मैनी रोड) में रहती थी. यह एक छोटा सा गांव है जो विसेंजा से 30 किलोमीटर की दूरी पर है. सोनिया गांधी का ‘मायनो परिवार’ सालों से यहींं रह रहा है. सोनिया गांधी का असली नाम अंटोनिआ एडवीज अल्बिना मायनो है. उनके पिता का नाम स्टेफनो मायनो और माता का नाम ओला मायनो है. उनके पिता स्टेफनो ने द्वितीय विश्व युद्ध में सोवियत सेना के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी. वह अपने आपको बेनिटो मुसोलिनी का सपोर्टर मानते थे. उनकी मृत्यु 1983 में हो गई.


sonia01


सोनिया गांधी ने अपनी किशोरावस्था इटली में ट्यूरिन के करीब ओरबासानो में बिताया. उनकी माता और दो बहने ओरबासानो में ही रहते हैं. सोनिया गांधी की शिक्षा कैथोलिक स्कूल से हुई है. उनका सपना था कि वह अलिटालिया एयरलाइन में फ्लाइट अटैंडेट बने.


Read: इस नौकरशाह ने बनाया इंदिरा को ‘आयरन लेडी’ फिर क्यों इंदिरा ने उससे  किया विश्वासघात


sonia-gandhi-


1964 में आगे की पढ़ाई के लिए सोनिया इंग्लैंड गई जहां उनकी मुलाकात राजीव गांधी से हुई. दोनों की मुलाकात ट्रिनिटी कॉलेज में हुई थी. जल्द ही दोनों (राजीव गांधी और सोनिया गांधी) एक-दूसरे को पसंद करने लगे और 1968 में दोनों ने हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली…Next


Read more:

एक हजार कमांडो करते हैं पीएम मोदी की सुरक्षा, जानें कैसी है उनकी सुरक्षा

बेरोजगार होने पर मोदी सरकार पर इस युवक ने किया केस

प्रधानमंत्री मोदी को 5 रुपए के साथ भेजी गई ये चिट्ठी, लिखी ये बातें



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Lalaine के द्वारा
July 11, 2016

I thought I was the only author doing this. Now, come to find out, it’s common. I wonder if the reason might be the size of the reading audience, and the love of the story so much that the author can’t imagine it not reaching the widest audience possible, even if this means calling the story something else. This is somewhat true in my own case. In my now-iut-of-pront pirate fantasy satire, the last chapter is a novella. This novella is now a series of chapterettes in my forthcoming novel ‘A Thousand Wrong Dancers,’ Irish Lore Trilogy, Book Two.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran