blogid : 321 postid : 1195483

क्या है 6/6/66 का रहस्य, जब खाली हो गया था देश का खजाना

Posted On: 27 Jun, 2016 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इंदिरा गांधी जब भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी तो शायद किसी ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनकी नीतियां इतनी मजबूत और सशक्त होंगी. इंदिरा के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था में ऐसा एतिहासिक और साहसिक कदम उठाया गया जिसने न केवल दुनिया का ध्यान भारत की तरफ खिंचा बल्कि देश की सूरत ही बदल कर रख दी. आइए जानते हैं आखिर क्या था वह कदम जिसने भारत की अर्थव्यवस्था में एक बड़ा बदलाव किया.

Rupee

आज से ठीक 50 साल पहले 6/6/1966  इंदिरा ने एक ऐसा कदम उठाया जिसे आज भी याद किया जाता है. भारत की आजादी और बंटवारे के बाद भारत की स्थिति भले ही पाकिस्तान से अच्छी थी, लेकिन उसकी अर्थव्यवस्था कभी भी दम तोड़ सकती थी. तब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने विरोध के बावजूद रुपये की कीमत में बड़े बदलाव किए थे.


ii


दरअसल, भारत में उस वक्त विदेशी निवेश के बारे में सोचना भी गलत था. 1965 की भारत पाकिस्तान की लड़ाई के बाद भारत सरकार वित्तीय रूप से लड़खड़ा गई थी. लड़ाई में सरकार ने सैन्य खर्च इतना कर दिया था कि सरकारी खजाना खाली हो गया था. वहीं विदोशों से भी भारत को मिलने वाली मदद बंद हो चुकी थी. भारत को मदद करने वाला अमेरिका भी पाकिस्तान के साथ आ खड़ा हुआ.


Read: एक ऐसी शादी जिसने बदली भारत की तकदीर


1966 में भारत ने अपने लोकप्रिय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को खो दिया. ऐसे में इंदिरा ने देश का कार्यभार संभाला. उस वक्त देश सुखे से ग्रस्त था, साथ ही देश का व्यापार घाटा 930 करोड़ रुपये पर पहुंच गया था. उस वक्त अमेरिकी प्रेजिडेंट रहे लिंडन बी जॉनसन ने भारत को 160 लाख टन गेहूं और 10 लाख टन चावल भेजा, साथ ही भारत को वित्तीय परेशानी से उबरने में मदद के लिए करीब 1 अरब डॉलर रुपये भी दिए. अमेरिका की यह मदद स्वीकार करने पर इंदिरा गांधी की देश में काफी आलोचना भी हुई.


indira1


इंदिरा गांधी का फैसला

इंदिरा गांधी ने 6 जून, 1966 को रुपये की कीमत घटा दी. उनके इस कदम से डॉलर की कीमत 7.50 रुपये हो गई, जो पहले 4.76 रुपये थी. इंदिरा के इस फैसले की जमकर आलोचना हुई. लेकिन किसी को क्या पता था कि, उनका यह फैसला देश की सूरत को बदल देगा. रुपए का पुनर्मूल्यन करने का यह फैसला भले ही चौंका देने वाला था. लेकिन कुछ दिन बाद ही इस फैसले से इंदिरा को सराहना भी खूब मिली. देश को सुखे और दिवालियापन से निजात मिलने लगा. इंपोर्ट सब्स्टिट्यूशन को सरकारी नीति के रूप में कड़ाई से लागू करने के साथ इंदिरा गांधी साल 1970 तक व्यापार घाटे को 100 करोड़ पर ले आई.


Indira

अगले साल इंदिरा ने बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजाद कराने में मदद की और उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से नवाजा गया. तब तक नॉर्मन बॉर्लॉग के नेतृत्व में 60 के दशक के मध्य में देश में ‘हरित क्रांति’ हुई और भारत में चावल, गेहूं और मक्के की पर्याप्त उपज होने लगी. देश में निर्यात की संभावनाएं बढ़ने लगी. बॉर्लॉग को 1970 में नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया.


inrupe


50 साल पहले इंदिरा के एक साहसिक फैसले ने भारत की रुप रेखा ही बदल दी. बहुत कम लोगों को पता होगा कि 15 अगस्त, 1947 को भारत की आजादी के दिन रुपये और डॉलर की कीमत बिल्कुल बराबर थी. लेकिन, अब दोनों में 6,600 प्रतिशत का अंतर आ गया है… Next


Read More:

इंदिरा को डर था कि ये अभिनेत्री उनकी सियासत के लिए खतरा बन सकती है

इंदिरा गांधी की हत्या क्या एक भावनात्मक मुद्दा है !

इंदिरा गांधी : शख्सियत जिसने बदली भारतीय राजनीति



Tags:                                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Zariel के द्वारा
July 11, 2016

Posted on inreideblc, that was a very good read. In cuoiloscnn, someone who actually thinks and understands what they are blogging about. Quite difficult to find of late, especially on the web . I bookmarked your web blog and will make sure to keep coming back here if this is how you always write. thank you, keep it up! .


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran