blogid : 321 postid : 1135356

इस खास गांव को खरीदने के लिए भारत ने दिए थे पाकिस्तान को 12 गांव

Posted On: 28 Jan, 2016 Politics में

Shakti Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पाकिस्तान की सीमा के निकट सतलज नदी के किनारे स्थित हुसैनीवाला में वैसे तो पूरे साल चहल-पहल रहती है लेकिन स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और शहीद दिवस के मौके पर यहां का नजारा अलग ही देखने को मिलता है. यहां की फिजाओं में राष्ट्र भक्ति और देश प्रेम जिस तरह से घुला है उससे एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित पड़ोसी देश पाकिस्तान भी बेचैन हो जाता है.


PM-Modi


आपको बता दें हुसैनीवाला गांव वही जगह है जहां 23 मार्च 1931 को शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव का अन्तिम संस्कार किया गया था. यहीं पर उनके एक और साथी बटुकेश्वर दत्त का भी 1965 में अन्तिम संस्कार किया गया था जिन्होंने अंग्रेजी शासन के समय भगत सिंह के साथ मिलकर केन्द्रीय असेंबली में बम फेंका था. बटुकेश्वर दत्त की चाहत थी कि उनका अंतिम संस्कार वहां पर ही हो जहां भगत सिंह और उनके अन्य साथियों का अंतिम संस्कार हुआ है.


Hussainiwalagate


वैसे आजादी के बाद विभाजन के समय हुसैनीवाला गांव पाकिस्तान के हिस्से चला गया था. लेकिन भारत में आजादी के सपूतों के प्रति लोगों का प्यार देखते हुए भारत सरकार ने पाकिस्तान को 12 गांव देकर 1960 के दशक मे हुसैनीवाला को भारत में मिलाया था.


borderforce



हुसैनीवाला स्थित इस स्थान को राष्ट्रीय शहीद स्मारक के रूप में 1968 में विकसित किया गया. पाकिस्तान से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित हुसैनीवाला गांव में लोग बाघा बॉडर की तरह रीट्रीट सेरेमनी का लुत्फ उठाते हैं. 1972 की लड़ाई में पाकिस्तानी सैनिकों इसे नुकसान पहुंचाने की पूरी कोशिश की थी लेकिन देश के पूर्व राष्ट्रपति एवं पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्ञानी जैल सिंह ने 1973 में इस स्मारक को फिर से विकसित करवाया था.


पिछले साल मार्च महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए हुसैनीवाला पहुंचे थे. प्रधानमंत्री का यह दौरा बेहद ही खास था क्योंकि 30 साल बाद कोई प्रधानमंत्री शहीदों को श्रद्धांजलि देने हुसैनीवाला पहुंचा था…Next


Read more:

क्यों हैं चीन के इस गांव के लोग दहशत में, क्या सच में इनका अंत समीप आ गया है

भूत-प्रेत की वहज से छोड़ा गया था यह गांव, अब पर्यटकों के लिए बना पसंदीदा जगह

इस गांव के लोग परिजनों के मरने के बाद छोड़ देते हैं अपना आशियाना



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Deena के द्वारा
July 11, 2016

You slag off on Anelka WAY too much! He was not the worse striker on the pitch against United – Drogba was!Kalou deserves to get more time, but Anelka is going to play a key role in our team this season, so everyone needs to get used to it and get behind their players, even when they are strpiglgng.Reuly


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran