blogid : 321 postid : 1092554

तनख्वाह के रुप में 1 रुपए लेते हैं मुंबई के ये नए कमिश्नर

Posted On: 10 Sep, 2015 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुंबई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया का जिस हड़बड़ाहट में तबादला किया गया उससे कई प्रश्नो को जन्म दिया. प्रश्न मुंबई पुलिस के नए आयुक्त के रुप मेंं अहमद जावेद की नियुक्ति के ऊपर भी उठाया जा रहा है साथ ही लोगों की दिलचस्पी अहमद जावेद के व्यक्तिगत और पेशेवर जिंदगी में भी जग उठी है. 1980 बैच के आईपीएस अधिकारी अहमद जावेद के बारे में कई किस्से प्रचलित है. आपको यह जानकर ताज्जुब हो सकता है कि अहमद जावेद अपनी तनख्वाह के रूप में प्रतिकात्मक तौर पर मात्र 1 रुपए लेते हैं.


javed 600


अहमद जावेद का जन्म शाही परिवार में हुआ. दिल्ली के नामी सेंट स्टीफन्स कॉलेज से स्नातक जावेद को अपनी जिंदगी शाही अंदाज में ही जीना पसंद हैं. उन्हें बिलियर्ड्स खेलना पसंद है. कम ही लोग जानते हैं कि करीब 19 महीने पहले जब राकेश मारिया मुंबई के पुलिस आयुक्त चुने गए तब अहमद जावेद भी इस पद के प्रबल दावेदार थे लेकिन तब राकेश मारिया को मुंबई पुलिस का नेतृत्व करने का जिम्मा मिला जबकि अहमद जावेद को डीजी होमगार्ड बना दिया गया था. अब जब जावेद को मुंबई का पुलिस आयुक्त बनाया गया है, मारिया को डीजी होमगार्ड के रुप में पदोन्नति दी गई है. यानी दोनों के कार्य को अदल-बदल दिया गया है.


Read: हाई प्रोफाइल मर्डर मिस्ट्री: भाई-बहन के लव अफेयर ने ली शीना बोरा की जान!


अहमद जावेद मुंबई के अपराध दुनिया के लिए अजनबी नहीं है. उन्होंने मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के तौर पर गेटवे ऑफ इंडिया और जावेरी बाजार में हुए बम धमाको को देखा. उन्होंने 1983 से 1985 तक राजधानी दिल्ली की पुलिस में भी अपनी सेवाएं दी. इस दौरान राजधानी ने प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिख विरोधी दंगो को सहा.


javed_ahmad_


अपनी लगभग पूरी तनख्वाह पुलिस फंड में जमा कराने वाले अहमद जावेद को महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक संजीव दयाल के करीबी बताया जाता है. माना जाता है कि सरकारी तबादलों में संजीव दयाल की काफी चलती है. मारिया और जावेद के कार्यभार के अदल-बदल ने मीडिया का ध्यान इसलिए भी खींचा क्योंकि मारिया बहुचर्चित शीना बोरा हत्या केस की खुद निगरानी कर रहे थे.


rakesh-maria-75

मुंबई पुलिस आयुक्त का कार्यभार संभालने के बाद अहमद जावेद ने कहा कि अब शीना बोरा मर्डर केस की और अधिक पेशेवर तरीके से जांच की जाएगी. जावेद के इस बयान का मीडिया द्वारा कई अर्थ निकाला जा रहा है. Next…


Read more:

देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री

49 की उम्र, 23 साल की नौकरी और 45 तबादले, आखिर कसूर क्या है इस आईएएस ऑफिसर का?

सत्ताधारियों के लिए आंखों की चुभन हैं ये सरकारी अफसर



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran