blogid : 321 postid : 962087

राष्ट्रपति पद के लिए कलाम नहीं ये थे वाजपेयी सरकार की पहली पसंद

Posted On: 29 Jul, 2015 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के राष्ट्रपति पद का कार्यकाल खत्म होने के बाद दो राष्ट्रपति इस पद पर आसीन हो चुके हैं लेकिन कलाम की लोकप्रियता का आलम यह है कि जनता के लिए वे अबतक राष्ट्रपति ही हैं. अपने निधन के बाद भी उनकी राष्ट्रपति की छवि जनता के दिलों में बरकरार है.  कहना गलत नहीं होगा कि कलाम भारतीय गणतंत्र के इतिहास में सबसे गैरपारंपरिक राष्ट्रपति होते हुए भी सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपति साबित हुए. परंतु यह कम लोग ही जानते हैं कि जुलाई 2002 में राष्ट्रपति पद के चुनाव से पहले डॉ कलाम एनडीए सरकार की पहली पसंद नहीं थे.


PicMonkey Collage


फरवरी 2002  के गुजरात दंगों के बाद एनडीए सरकार अपनी धर्मनिरपेक्षता के प्रति निष्ठा प्रकट करने के लिए किसी गैर हिन्दू व्यक्ति को राष्ट्रपति बनाना चाहती थी. तब जॉर्ज फर्नांडिस अटल बिहारी की सरकार में रक्षामंत्री थे. डॉ. कलाम तब रक्षा मंत्रालय के वैज्ञानिक सलाहकार हुआ करते थे. पूर्व भाजपा नेता और पत्रकार सुधीन्द्र कुलकर्णी लिखते हैं कि उस समय राष्ट्रपति डॉ. के आर नारायणन दूसरी बार राष्ट्रपति बनने के लिए इच्छुक थे वहीं उप राष्ट्रपति कृष्ण कांत भी राष्ट्रपति भवन में प्रवेश पाने के लिए ललायित थे परंतु भाजपा हर हालत में किसी गैर मुस्लिम व्यक्तित्व को ही राष्ट्रपति बनाना चाहती थी.


Read: ‘उन चार सांसदों में से एक थे’:-अटल बिहारी वाजपेयी


सबसे पहले एनडीए ने डॉ. पीसी एलेक्जेंडर का नाम राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए चुना. पीसी एलेक्जेंडर तब महाराष्ट्र के राज्यपाल के पद पर आसीन थे. डॉ. एलेक्जेंडर एक अनुभवी नौकरशाह थे. उन्होंने प्रधानमंत्री इंदिरा गांंधी और राजीव गांधी के प्रमुख सचिव के तौर पर अपनी सेवा दी थी. उस समय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी दोनों ही उनके नाम पर सहमत थे. खैर राष्ट्रपति पद के लिए डॉ. एलेक्जेंडर का नाम कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी को मंजूर नहीं था.


Read: ये हैं वो 6 वजहें जो अब्दुल कलाम को जनता के करीब लाती है


वाजपेयी राष्ट्रपति पद के लिए ऐसे उम्मीदवार को चुनना चाहते थे जिसपर सभी दलों की सहमति हो. ऐसे में जॉर्ज फर्नांडिस ने डॉ. अब्दुल कलाम का नाम सुझाया जिसे झट से मान लिया गया. डॉ. कलाम के नाम पर एनडीए के सभी घटक दलों के साथ विपक्ष भी सहमत हो गया और इस तरह राजनीतिक गलियारों से दूर रहने वाले अब्दुल कलाम भारत के 11वें राष्ट्रपति चुन लिए गए. Next…


Read more:

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति का कबूलनामा: एलियन्स की पसंदीदा जगह है पृथ्वी

इनकी वजह से अमेरिका के राष्ट्रपति को अपने बैडरूम से बाहर सोना पड़ा

ये है वो ठग जिसने संसद भवन, राष्ट्रपति भवन और ताज महल को भी बेच डाला



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran