blogid : 321 postid : 800703

तब नहीं घुस पाए थे मोदी के इस गांव में औरंगज़ेब के सैनिक

Posted On: 7 Nov, 2014 Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लोगों का मिज़ाज बदलने से समय और समाज बदलते है. जब लोगों का मिज़ाज बदलता है तो परिवर्तन तय मानी जाती है. इस परिवर्तन का नेतृत्व अभी नरेंद्र मोदी करते नजर आ रहे हैं.



jayapur



परिवर्तन की चाह में प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों की कार्यशैली में बदलाव का आह्वान करते हुए अपने लोकसभा क्षेत्र वाराणसी में जयपुरा गाँव को अपने दत्तक के रूप में चुना है. दत्तक इसलिए, क्योंकि अब इस गाँव के उत्थान की जिम्मेदारी अंतत: प्रधानमंत्री के कंधों पर होगी.


Read: वो था सितंबर विवेकानंद का………….ये है सितंबर नरेन्द्र मोदी का


इस गाँव का ऐतिहासिक महत्तव भी है. कहा जा रहा है कि 17वीं शताब्दी में जब औरंगज़ेब के सैनिक मंदिरों को नष्ट कर रहे थे तो उन्हें इस गाँव में हनुमान जी का एक मंदिर मिला. लेकिन ग्रामीणों ने अपने गाँव की रक्षा करते हुए न सिर्फ इस मंदिर की रक्षा की बल्कि सैनिकों को दूर खदेड़ दिया यह मंदिर विशिष्ट माना जाता है क्योंकि यहाँ स्थापित हनुमान की मूर्ति काले रंग की है. इस कारण से इसे ‘काले हनुमान का मंदिर’ भी कहा जाता है.’


यह गाँव शिवपुरी ब्लॉक के अंतर्गत आता है जो ‘अपना दल’ के संस्थापक स्वर्गीय सोनेलाल पटेल से भी जुड़ा है. इस गाँव के लोग परिवार का पेट पालने के लिए महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों में जाकर राजमिस्त्री का काम करते हैं.


Read: खुला पुर्वजन्म का राज- जानिए अपने पिछले जन्म में क्या थे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी


यहाँ गन्ने की खेती की जाती है जिसे ‘जयपुरिया गन्ना’ कहते हैं. यहाँ के खेतों में वर्ष भर जयपुरिया नाम का गन्ना उगाया जाता है जबकि देश के अधिकांश भाग में गन्ना मौसमी फसल है. किसान इस गन्ने को वाराणसी के अलावा पूर्वी बिहार में भेज कर पैसे कमाते हैं.



Read more:

क्रिकेटर से राज्यसभा सांसद तक का सफ़र – सचिन तेंदुलकर

सवालों के घेरे में सांसद निधि

सचिन पायलट: महज 26 वर्ष की उम्र में ही बन गए सांसद




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kumarvijaynarayansingh के द्वारा
December 29, 2014

मैं स्वतंत्रता प्राप्ति के उपरान्त जीवित बचे हुए कुछ नेताओं को छोड़कर किसी भी नेता की जीवनी पढ़ने तथा पढ़ाने का पक्षधर नहीं हूँ। क्योंकि ईमानदार नीयत के साथ सर्वकल्याणकारी संवैधानिक कानूनों को निर्मित नहीं किया गया। भारत का विकास हुआ है। परन्तु धनोत्पादक वर्गों को लूट कर ही विकास हुआ है। काष! धनोत्पादक वर्ग इस रहस्य को समझ पाते।


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran