blogid : 321 postid : 717725

दो सालों में ऐसा क्या हुआ कि गांधीवादी अन्ना सबसे बड़े धोखेबाज साबित होने लगे

  • SocialTwist Tell-a-Friend

“अन्ना तुम आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ हैं”, “मैं भी अन्ना, तू भी अन्ना, अब तो सारा देश है अन्ना”, “अन्ना हजारे आंधी है…देश का दूसरा गांधी है’ ये कुछ नारे हैं जिसने ढाई साल पहले प्रसिद्ध समाजसेवी अन्ना हजारे को गांधी के समकक्ष ला खड़ा कर दिया था. आम लोग और उनके समर्थक उनमें महात्मा गांधी का अक्श देखने लगे थे. कहा यह भी जाने लगा कि अन्ना हजारे आधुनिक भारत के एक ऐसे महात्मा गांधी हैं जो अंग्रेजों की तरह ही देश से भ्रष्टाचार को बाहर खदेड़ेंगे. लेकिन बीते दो सालों में ऐसा क्या हुआ कि गांधीवादी अन्ना हजारे सबसे बड़े पलटू और धोखेबाज साबित होने लगे.

यहां हम आपको कुछ ऐसी घटनाएं बताने जा रहे हैं जिनके आधार पर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि क्या सचमुच में अन्ना हजारे सबसे बड़े पलटू हैं:


anna.hazare and deshmukhअन्ना के लिए राजनीति कीचड़ नहीं है

अन्ना हजारे बार-बार यह कहते रहे कि राजनीति कीचड़ है, मैं इसमें जाने का पक्षधर नहीं हूं, लेकिन अतीत की घटनाएं बताती हैं कि अन्ना ने राजनीति और राजनेताओं के साथ जमकर गलबहियां की हैं. वे शरद पवार, बाल ठाकरे से लेकर विलासराव देशमुख तक सबके साथ अंतरंगता के साथ काम कर चुके हैं. विलासराव देशमुख के साथ उनके मधुर संबंध आज भी याद किए जाते हैं.


अपनी टीम को ही धर्म संकट में डाल देते थे अन्ना

अन्ना के बारे ऐसा माना जाता है कि उन्हें कोई आसानी से मना सकता है जिसकी वजह से कई बार भंग हो चुकी टीम अन्ना धर्म संकट में पड़ जाती थी. इस वाकये के जरिए इसे समझा जा सकता है. अगस्त में दिल्ली के आंदोलन के बाद टीम अन्ना ने अनशन के लिए मुंबई का स्थान चुना. हालांकि यह आंदोलन पूरी तरह से फ्लॉप रहा. इसी दौरान अन्ना और उनकी टीम ने घोषणा कर रखी थी कि वे उत्तर प्रदेश समेत उन पांच राज्यों में कांग्रेस को हराने का अभियान छेड़ेंगे जिनमें विधानसभा के चुनाव प्रस्तावित थे और इस अभियान का नेतृत्व अन्ना हजारे करेंगे. लेकिन मुंबई में असमय ही अनशन खत्म करते वक्त अन्ना ने जो बयान दिया वह चौंकाने वाला था. उन्होंने कहा, ‘अगर कांग्रेस संसद के शीतकालीन सत्र में जनलोकपाल को पारित करवा देती है तो मैं विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और यूपीए का समर्थन करूंगा.’ यह ऐसी हास्यास्पद स्थिति थी जिससे निपटना टीम अन्ना के सदस्यों को भारी पड़ रहा था. मजबूरन टीम ने यह कहकर इस बयान से पिंड छुड़ाया कि कि अन्ना की तबियत ठीक नहीं है इसलिए वे उत्तर प्रदेश अभियान से अलग रहेंगे. माना जाता है कि तब अन्ना के इस बयान से पहले रालेगण सिद्धि में कुछ कांग्रेसी नेताओं के साथ उनके लोगों की मुलाकात हुई थी.


Read: वह नहीं चाहते कि मोदी देश के पालनहार बनें!


राजनीतिक पार्टी बनाने को लेकर

राजनीति को कीचड़ मानने वाले अन्ना हजारे ने ही सबसे पहले राजनीतिक पार्टी बनाने की बात कही थी. अरविंद केजरीवाल की मानें तो जनवरी 2012 में जब अन्ना अस्पताल में भर्ती थे उस दौरान उन्होंने एक छोटी सी मीटिंग में यह बात स्वीकारी कि अब आंदोलन को राजनीतिक रूप देना चाहिए, हालांकि बाद में अन्ना हजारे पलट गए.


INDIA-CORRUPTION/बड़ा समाजसेवक छोटी सोच

अक्टूबर 2012 में पाकिस्तान से सिविल सोसाइटी के सदस्यों का एक समूह अन्ना हजारे से मिलने भारत आया हुआ था. उनकी मंशा  पाकिस्तान में भी अन्ना की तर्ज पर भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन खड़ा करने की थी. अन्ना से मिलने के बाद पाकिस्तानी सिविल सोसाइटी के सदस्यों ने उन्हें पाकिस्तान आने का न्यौता भी दिया. अन्ना ने सार्वजनिक रूप से उन्हें भरोसा दिया कि वे पाकिस्तान आएंगे और भ्रष्टाचार के खिलाफ अलख जगाएंगे, हालांकि वह पाकिस्तान गए नहीं. इस मुलाकात के ठीक एक हफ्ते बाद अन्ना ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए ऐसी बात कही जिसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी. जोश में अन्ना ने बयान दिया कि अगर उन्हें मौका मिलेगा तो एक बार फिर से पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध करने को तैयार हैं.


Read: ‘आप’-सबके केजरीवाल


लोकपाल के मुद्दे पर पलटे

हाल ही में अन्ना लोकपाल बिल पास करवाने के लिए रालेगण सिद्धि में अनशन पर बैठे थे. अन्ना का यह अनशन पुराने जनलोकपाल बिल के लिए नहीं था जिसे भंग हो चुकी अन्ना टीम ने तीन साल पहले तैयार किया था. यह केंद्र का वही बिल था जिसे अन्ना हजारे ने कभी कमजोर बिल कहा था.

बहरहाल केंद्र सरकार ने इस बीच अपना लोकपाल पारित कर दिया जिसे अनशन पर बैठे अन्ना ने अपनी जीत घोषित करते हुए स्वीकार कर लिया. लेकिन जब उनके पुराने सहयोगी अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार के लोकपाल की इस आधार पर आलोचना की कि इसमें वादे के मुताबिक तीन प्रमुख बिंदुओं को शामिल ही नहीं किया गया है तब अन्ना हजारे ने एक महत्वपूर्ण बयान दिया, ‘यह लोकपाल मजबूत है. अगर अरविंद को इससे कोई परेशानी है तो वे अपना लोकपाल खुद बना लें’.


Anna-Mamata 1तृणमूल कांग्रेस से धोखा

राजनीति से दूर रहने की बात कहने वाले अन्ना हजारे ने पिछले महीने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के समर्थन में लोकसभा चुनावों के दौरान देशभर में चुनाव प्रचार करने की बात कही थी, लेकिन अन्ना यहां भी अपनी बात पर टिक नहीं पाए. कुछ दिन पहले दिल्ली के रामलीला मैदान में तृणमूल कांग्रेस ने एक रैली का आयोजन किया था. उस रैली में अन्ना हजारे नहीं पहुंचे. कहा जाता है कि यह रैली अन्ना हजारे के आह्वान पर आयोजित की गई थी. बीते शुक्रवार को उन्होंने एक महत्वपूर्ण बयान दिया जिसमें उन्होंने कहा कि वे पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री (ममता बनर्जी) का समर्थन करते हैं, लेकिन उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस का नहीं.


Read more:

किसका लोकपाल बेहतर – अन्ना या केजरीवाल का ?

ये हैं पाकिस्तान के “अन्ना हजारे”!!


Web Title : when anna hazare cheat



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

SARFERAZ के द्वारा
March 17, 2014

केजरिवाल सरकार के ४९ दिन के कार्य दिल्ली मे ६६७ लीटर मुफ्त पानी आधे दाम पर बिजली कर २८ लाख उपभोक्ताओं को लाभ बिजली कम्पनियों की आदित कराने का आदेश ४०० यूनित खर्च करने पर बिजली दर ५० % घता दी गयी अम्बानी के कम्पनी के विरोध भ्रस्टाचार पर कड़ा कदम उठाया शीला दिक्षित के खिलाफ भ्रस्टाचार विरोधी अभियान चलने पर कोंग्रेस सरकार ने समर्थन वापस की धमकी दी दिल्ली जल बोर्ड मे ६ सौ करोड के घोटाले मे लिप्त १३ अफसरों पर ५ मुकडमे दर्ज किए गए जिसकी सी बी आी जांच बैठाईी गयी स्टिंग अप्रेसन मे घुंस लेते एक अधिकारी को जांच मे सही पाया गया उसे नीलम्बित किया गया दिल्ली मे चौराहे पर पुलिस ने पैसे लेने काम कर दिये थे दफ्तर मे बाबू घुंस लेने से डरने लगे थे जाडों मे दिल्ली मे फुत्पाथ पर सोये गरीब को बनाये गए राहत शिविर मे पहुंचाया जाता था आप की नकल करते हुए भाजपा ने भी वालेंटेयर बनाने शुरू किए इन सभी कार्यो से परभावित होकर संघ के मजोहन भागवत ने भाजपा को चेतेने की नासीहत दी थी तथा आप को भाजपा के लिये खतरा बताया था क्या भ्रस्टाचार पर उठाया गया कड़ा कदम नहीं था क्या मिडिया इन सब को भूल गयी या उनके रेकॉर्ड्स जल गए

sbsharmaji के द्वारा
March 16, 2014

जब आदमी को खबरो मे रहने व दालल  फराईी का चसका लग जाएे तो ऎसा ही होता है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran