blogid : 321 postid : 1055

अमेरिका कब तक चलेगा दोहरी रणनीति पर

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ओबामा(Barack Obama) के दूसरी बार राष्ट्रपति बनने से भारत पर क्या प्रभाव पड़ सकता है यह बात चिंतन योग्य है. दो देशों के भूराजनीतिक हालात और अर्थव्यवस्था पर अमेरिका का नजरिया मायने रखता है. भारत, पकिस्तान, चीन और  अफगानिस्तान जैसे देशों की राजनीति पूरी तरह से अमेरिका के ऊपर निर्भर करती है. इसके अलावा तकनीकी और व्यापारिक स्तर पर भी ओबामा का दूसरी बार राष्ट्रपति बनना एक घटक का काम करेगा. रोजगार और विदेशी व्यापार पर ओबामा का निरंतर बोलना भारत के लिए एक चिंताजनक बात होगी. इसके साथ-साथ भारत के पड़ोसी देशों को सैन्य सहायता प्रदान करना भी भारत के लिए कहीं खतरे की आहट तो नहीं !


Read:गुजरात विधानसभा चुनाव 2012 – एक अवलोकन


Barack Obamaअमेरिका की दोहरी रणनीति

अमेरिका जहां एक तरफ भारत के साथ होने का नाटक कर रहा है वहीं भारत के पड़ोसी देशों के साथ उसके सबंध भी खुद यह प्रश्न खड़े करते हैं कि क्या वो पूरी तरह से भारत का साथ दे रहा है या फिर यह मात्र ढोंग है. पाकिस्तान के साथ सैन्य समझौता और पकिस्तान के साथ चीन का सबंध कहीं भारत के लिए भय का विषय ना बन जाए. भारत ऐसी मजबूरी में है जिसमें वो पूरी तरह से अमेरिका पर विश्वास भी नहीं कर सकता और न ही उससे अलग ही हो सकता है.



विकास किस रूप में होगा

सब की निगाहें इसी बात पर ठहरी हैं कि ओबामा के फिर से राष्ट्रपति बनने से आर्थिक तौर पर क्या फर्क पड़ेगा. क्या ओबामा से कोई सकारात्मक पहल की आशा की जा सकती है. जहां तक आउटसोर्सिंग एक मुद्दा बन सकता है क्योंकि चुनाव पूर्व ओबामा इसके पक्ष में ज्यादा नहीं दिखाई दे रहे थे और शायद यह भारत के लिए अच्छा नहीं होगा. जहां तक सामरिक साझेदारी के पक्ष में ओबामा दिखते हैं पर आगे की विकास योजना को लेकर भारत के पक्ष में मात्र यह काफी नहीं होगा. देखने की बात यह होगी कि जिस तरह की योजना भारत को और ज्यादा विकसित बनाने में मदद करेगी उसके पक्ष में ओबामा क्या कदम उठाते हैं.


Read:अपनी राह खुद ही तलाशनी होगी……….


कुछ भारत के पक्ष में

ओबामा की कुछ नीतियां भारत के पक्ष में जरूर हैं जैसे कि ओबामा का यह मानना है कि अफगानिस्तान के विकास और परिवर्तन में भारत का काफी योगदान होना चाहिए और कश्मीर को लेकर एक गंभीर चिंतन के बाद उनका कहना है कि कश्मीर में बाहरी हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए. यह कदम भारत के अनुकूल है इस मुद्दे पर भारत भी यह मांग करता रहा है कि कश्मीर पर बाहर से कोई टीका-टिप्पणी नहीं होनी चाहिए. भारत और ईरान के संबंध अच्छे दिशा में जा रहे हैं और अमेरिका का ईरान के प्रति कड़ा रुख ना अपनाना भी भारत को धर्मसंकट से बचाने में एक बड़ा कदम होगा.


Read:नीतीश कुमार: मैं प्रधानमंत्री बनना चाहता हूं…….


Tags:America, Barack Obama, President, Election, India, America India, अमेरिका, राष्ट्रपति, पाकिस्तान, बराक ओबामा, चुनाव, भारत, भारत अमेरिका



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Prakash के द्वारा
April 26, 2015

अमरिका हर बात में सिर्फ अपना हित देखता है उसे दूसरे देशों के हितों से कोइ लेना देना नहीं है वह लादेन को मार देने के लिए पाकिस्तान में अंदर तक घुस गया पर किसी नें उसे बुरा नहीं कहा मगर यदि भारत अभी अपने गुनाहगारों को मारने के लिए पाकिस्तान में घुस जाये तो हायतोबा मचाने वालों में सबसे आगे खडा होगा ।आज अमरिका चीन को नहीं डरा सकता क्योंकि उस मालूम है की चीन उसे तगडी टक्कर देगा बल्की वह खुद चीन से डरता है लेकिन भारत के मामले में उसे पता है कि भारत सिर्फ चिल्लाता रहेगा करेगा कुछ भी नहीं।दोस्ती बराबर वालों से होती है कमजोरों से नहीं सच ही कहा है कि भय के बिना प्रीती नहीं होती


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran