Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Political Blog

राजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

483 Posts

458 comments

| NEXT

Vilasrao Deshmukh - विलासराव देशमुख

  • SocialTwist Tell-a-Friend

vilas rao deshmukhविलासराव देशमुख का जीवन-परिचय

दो बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रह चुके विलासराव दगडोजीराव देशमुख का जन्म 26 मई, 1945 को महाराष्ट्र के लातूर जिले के बाभलगांव में हुआ था. विलासराव देशमुख ने पुणे यूनिवर्सिटी से विज्ञान और कला में स्नातक की उपाधि ग्रहण की. इसके बाद पुणे यूनिवर्सिटी से ही इन्होंने वकालत की पढ़ाई संपन्न की. विलासराव देशमुख ने युवावस्था से ही सामाजिक कार्यों में हिस्सा लेना शुरू कर दिया था. खासतौर पर बाढ़ आदि जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय पीड़ितों की मदद के लिए विलासराव देशमुख ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. वर्ष 1979 में विलासराव देशमुख ओसमानाबाद जिले के सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के निदेशक नियुक्त किए गए. विलासराव देशमुख के परिवार में इनकी पत्नी और तीन पुत्र हैं. हिंदी फिल्मों के मशहूर अभिनेता रितेश देशमुख, विलासराव देशमुख के ही पुत्र हैं.


विलासराव देशमुख का व्यक्तित्व

विलासराव देशमुख एक अच्छे खिलाड़ी हैं. उन्हें क्रिकेट, वॉलीबॉल और टेबल टेनिस की अच्छी जानकारी है. वह आधुनिक विचारधारा वाले नेता हैं. अच्छा प्रशासनिक अनुभव होने के कारण वह एक कुशल शासक भी हैं.


विलासराव देशमुख का राजनैतिक सफर

विलासराव देशमुख ने सक्रिय राजनैतिक जीवन की शुरुआत बाभलगांव की पंचायत का सदस्य बनकर की. वह वर्ष 1974 से 1979 तक इससे जुड़े रहे. इतना ही नहीं, 1974 से 1976 तक वह इस गांव के सरपंच भी रहे. वर्ष 1974 से 1980 तक वह ओसमानाबाद जिला परिषद के सदस्य और लातूर तालुके की पंचायत समिति के उपाध्यक्ष भी रहे. वर्ष 1975 में ओसमानाबाद की जिला युवा कांग्रेस समिति का अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने इस समिति से जुड़े पांच सूत्रीय कार्यक्रमों का संचालन करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. युवाओं को संगठित कर विलासराव देशमुख ने ओसमानाबाद जिले में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की युवा शाखा का निर्माण किया. वह इसके अध्यक्ष भी बने. वर्ष 1980, 1985 और 1990 के चुनावों में जीतकर वह ओसमानाबाद जिले के विधायक भी रहे. इस कार्यकाल में वह विभिन्न विभागों जैसे पशु-पालन, सामान्य प्रशासन, शिक्षा, पर्यटन, कृषि, ग्रामीण विकास आदि से संबंधित रहे. वे वर्ष 1982 से 1995 के बीच सत्ता में आने वाली सभी सरकारों में शामिल रहे. उन्होंने राजस्व, शिक्षा, कृषि और उद्योग जैसे विभागों को संभाला. वर्ष 1995 में चुनावों में हारने के बाद 1999 में वह दोबारा लातूर से जीत गए. और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनाए गए. उनका यह कार्यकाल वर्ष 2003 तक चला. सुशील कुमार शिंदे के असफल शासन के बाद विलासराव देशमुख दोबारा मुख्यमंत्री बनाए गए. मुख्यमंत्री के रूप में उनका दूसरा कार्यकाल उनके इस्तीफे के साथ 2008 में समाप्त हो गया. मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद विलासराव देशमुख राज्यसभा के सदस्य बनाए गए. मनमोहन सरकार में वर्ष 2009 में वह केन्द्रीय मंत्री के रूप में भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम के लिए मंत्री परिषद के सदस्य नियुक्त हुए. वर्तमान में विलासराव देशमुख, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री के साथ ही पृथ्वी विज्ञान मंत्री का पदभार संभाले हुए हैं.


विलासराव देशमुख से जुड़े विवाद

विलासराव देशमुख के मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए उन पर कई घोटालों में शामिल होने के गंभीर आरोप लगाए गए. नवंबर 2008 में हुए घातक मुंबई आतंकी हमलों के बाद घटनास्थल ताज होटल में अपने अभिनेता बेटे रितेश देशमुख और फिल्म निर्देशक राम गोपाल वर्मा को साथ लेकर जाने के बाद उन्हें अपने पद से इस्तीफा तक देना पड़ा. इसके अलावा शहीद सैन्य अधिकारियों के परिवारों के लिए बनाई गई मुंबई की आदर्श सोसाइटी घोटाला, राष्ट्रमंडल खेलों में पैसों की घपलेबाजी जैसे कई आरोपों से भी यह घिरे हुए हैं.


विलासराव देशमुख के योगदान

  • वर्ष 1999 में विलासराव देशमुख ने रोजगार उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से लातूर में मंजरा सहकारी चीनी फैक्टरी की शुरुआत की, जिसका उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने किया था. इस कारखाने के खुलने से लोगों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति महत्वपूर्ण ढंग से परिमार्जित हुई. मंजरा सहकारी चीनी फैक्टरी नामक इस संस्थान ने लातूर के विकास में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है.
  • इसके अलावा विलासराव देशमुख ने मंजरा चैरिटेबल ट्रस्ट की भी स्थापना की है जो लातूर और मुंबई में कई कॉलेजों और स्कूलों जैसे मंजरा आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (लातूर), राजीव गांधी प्रौद्योगिकी संस्थान (वर्सोवा), सुशीला देवी देशमुख विद्यालय(नवी मुंबई) का संचालन करता है.



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

| NEXT

Post a Comment

*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

seo के द्वारा
December 8, 2015

Hello Web Admin, I noticed that your On-Page SEO is is missing a few factors, for one you do not use all three H tags in your post, also I notice that you are not using bold or italics properly in your SEO optimization. On-Page SEO means more now than ever since the new Google update: Panda. No longer are backlinks and simply pinging or sending out a RSS feed the key to getting Google PageRank or Alexa Rankings, You now NEED On-Page SEO. So what is good On-Page SEO?First your keyword must appear in the title.Then it must appear in the URL.You have to optimize your keyword and make sure that it has a nice keyword density of 3-5% in your article with relevant LSI (Latent Semantic Indexing). Then you should spread all H1,H2,H3 tags in your article.Your Keyword should appear in your first paragraph and in the last sentence of the page. You should have relevant usage of Bold and italics of your keyword.There should be one internal link to a page on your blog and you should have one image with an alt tag that has your keyword….wait there’s even more Now what if i told you there was a simple Wordpress plugin that does all the On-Page SEO, and automatically for you? That’s right AUTOMATICALLY, just watch this 4minute video for more information at. Seo Plugin seo http://www.SEORankingLinks.com/

seo के द्वारा
November 26, 2015

Hello Web Admin, I noticed that your On-Page SEO is is missing a few factors, for one you do not use all three H tags in your post, also I notice that you are not using bold or italics properly in your SEO optimization. On-Page SEO means more now than ever since the new Google update: Panda. No longer are backlinks and simply pinging or sending out a RSS feed the key to getting Google PageRank or Alexa Rankings, You now NEED On-Page SEO. So what is good On-Page SEO?First your keyword must appear in the title.Then it must appear in the URL.You have to optimize your keyword and make sure that it has a nice keyword density of 3-5% in your article with relevant LSI (Latent Semantic Indexing). Then you should spread all H1,H2,H3 tags in your article.Your Keyword should appear in your first paragraph and in the last sentence of the page. You should have relevant usage of Bold and italics of your keyword.There should be one internal link to a page on your blog and you should have one image with an alt tag that has your keyword….wait there’s even more Now what if i told you there was a simple Wordpress plugin that does all the On-Page SEO, and automatically for you? That’s right AUTOMATICALLY, just watch this 4minute video for more information at. Seo Plugin seo http://www.SeoOptimizedRankings.com/

shanker pai के द्वारा
August 19, 2012

In the grief .. the family and the great actor Reitesh has lost an opportunity for organ donation …ORGAN-DONATION-INSTITUTE




अन्य ब्लॉग